Saturday, July 04, 2015

Sri Aurobindo’s analysis of the Rig Veda is compelling.




Thursday, July 02, 2015

Emerson, Bertrand Russell, Nicholas Wolterstorff, and Don Salmon

Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother.
Underlying dynamics of cultural development - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. - Marketime Maritain's Human Rights and Sri Aurobindo's Human Unity - Fukuyama: ...
Maritain's Human Rights and Sri Aurobindo's Human Unity - Fukuyama: Democracy is not going to survive if people do not want democracy http://t.co/IP0YOn7DZe 1. The Final Form of Human Government Progressives, inclu...
Sri Aurobindo invites all to be as Varuna - The plight of Hindutva scholars to support and gather justification for whatever Modi does is unenviable. No salvation sans Critical Reason. Ascendancy of M...
Introduction to the Three Gunas or Modes of Nature - Originally posted on Sri Aurobindo Studies: The idea of liberation from the bondage of Nature and its action has been a central tenet of spiritual tradition...
Moving From Human to Divine Action - Originally posted on Sri Aurobindo Studies: For the awareness to shift from that of the ego-individual as the “doer” to that of the Divine Consciousness, Sr...
Sri Aurobindo is usually seen as an intellectual - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. Plain & Simple Deshpande visits Italy: Visit to Modena - Savitri Era of those who adore, Om ...
Marx, Jacques Ranciere, and The Mother - In reply to an earlier post on Mar 9, 2015 Ashtar Command says: Don, You are right that Aurobindo is usually seen as an intellectual, theoretical guy, like ...
Haidt, Sowell, Mooney, and Sri Aurobindo - The best book ever written on the underlying dynamics of cultural development, March 4, 2015 By Don Salmon "Don Salmon" - This review is from: The Human ...
Sri Aurobindo is singing on every page of The Life Divine - In reply to an earlier post on Mar 9, 2015 Don Salmon says: we're looking at about 3 to 4 months to FINALLY get our music and videos up on our website 
Violence in the political sphere is not going to disappear - surprised to be enjoying May 17, 2015 My first reread of Bertrand Russell’s history of philosophy in nearly 30 years. The refreshing thing about Russell, wh...
Exchange and specialization - A Rough Ride to the Future - James Lovelock - 2015 - ‎Preview - ‎More editions A Rough Ride to the Future is a...
Great Separation: Mark Lilla and Leela Gandhi - Justice: Rights and Wrongs by Nicholas Wolterstorff (May 2, 2010) by Nicholas Wolterstorff He traces our intuitions about rights and justice back even furth...
Transnational history of democracy - American Veda: From Emerson and the Beatles to Yoga and ... Philip Goldberg - 2010 - ‎Preview - ‎More editio...
Bandana he - Bandana he Dasyu Ratnakara (1962) Odia melody Published on Jun 25, 2015 Nabakishore Mishra & Utpala Sen sings..''Bandana He....'' in Odia Movie ''Dasyu Ra...
Possible convergence between Kurzweil and Sri Aurobindo - Foundations and Applications of Indian Psychology - Cornelissen, ‎Varma, ‎Misra - Preview the renunc...
Without even a mention of Sri Aurobindo - Puducherry, an intellectual destination - The Hindu - Thus, the book feature...
Dyuman “The Luminous” Karmayogi by Krishna Chakravarti - Originally posted on Overman Foundation: Dear Friends, Chunibhai Patel (19.6.1903—19.8.1992) was a Gujarati sadhak who was renamed ‘Dyuman’ (“the luminous o...


Monday, June 29, 2015

Sri Aurobindo is usually seen as an intellectual

Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother.

Deshpande visits Italy: Visit to Modena - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. - Savitri Era Open Forum Marx, Jacques Ranciere, and The Mother - In reply to an ea...

Marx, Jacques Ranciere, and The Mother - In reply to an earlier post on Mar 9, 2015 Ashtar Command says: Don, You are right that Aurobindo is usually seen as an intellectual, theoretical guy, like ...

Haidt, Sowell, Mooney, and Sri Aurobindo - The best book ever written on the underlying dynamics of cultural development, March 4, 2015 By Don Salmon "Don Salmon" - This review is from: The Human ...

Sri Aurobindo is singing on every page of The Life Divine - In reply to an earlier post on Mar 9, 2015 Don Salmon says: we're looking at about 3 to 4 months to FINALLY get our music and videos up on our website - www...

The Ideal of Human Unity was unfurled in 1915 - Although I am blogging since 2005 on the theme of The Mother & Sri Aurobindo, some accuse me of misusing their names for political purpose. This is nothing...

Violence in the political sphere is not going to disappear - surprised to be enjoying May 17, 2015 My first reread of Bertrand Russell’s history of philosophy in nearly 30 years. The refreshing thing about Russell, wh...

Exchange and specialization - A Rough Ride to the Future James Lovelock - 2015 - ‎Preview - ‎More editions A Rough Ride to the Future is a...

Great Separation: Mark Lilla and Leela Gandhi - Justice: Rights and Wrongs by Nicholas Wolterstorff (May 2, 2010) by Nicholas Wolterstorff He traces our intuitions about rights and justice back even furth...

Transnational history of democracy - American Veda: From Emerson and the Beatles to Yoga and ... Philip Goldberg - 2010 - ‎Preview - ‎More editio...

Techno-Optimism and the Way to the Age of Abundance - Savitri Era Political Action Where Kurzweil, Diamandis, Ridley, and Kelly leaves off - The Singularity and Socialism: Marx, Mises, Complexity Theory, Techno...

Saturday, June 27, 2015

Techno-Optimism and the Way to the Age of Abundance

Where Kurzweil, Diamandis, Ridley, and Kelly leaves off - The Singularity and Socialism: Marx, Mises, Complexity Theory, Techno-Optimism and the Way to the Age of Abundance by C. James Townsend By Lizzette Rivera o...

No kowtowing to Hindutva juggernaut - We have commented upon Rajiv Malhotra on several occasions disapproving his approach towards the West. Besides, he is not sympathetic towards Sri Aurobindo...

Bandana he - Bandana he Dasyu Ratnakara (1962) Odia melody Published on Jun 25, 2015 Nabakishore Mishra & Utpala Sen sings..''Bandana He....'' in Odia Movie ''Dasyu Ra...

V.P. Singh, JP, Vinoba Bhave, and Gandhi - Tweets: Partially agree with this article, V.P. Singh mandal decision was historic, it was part of Janata dal manifesto http://t.co/DccKnLD5qy India was all...

Harmonizing either-or, black and white - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. - the Orchid and the rOse Possible convergence between Kurzweil and Sri Aurobindo ...

Possible convergence between Kurzweil and Sri Aurobindo - Foundations and Applications of Indian Psychology - Page 60 https://books.google.co.in/books?isbn=9332538247 Cornelissen, ‎Varma, ‎Misra - Preview the renunc...

Equality of Soul Towards All - Originally posted on Sri Aurobindo Studies: Sri Aurobindo provides the basis for the requirement of equality of soul: “And since all things are the one Self...

The Second Stage in the Development of Equality of Soul - Originally posted on Sri Aurobindo Studies: Stoicism, even a stoicism tempered by wisdom or devotion, is not able to bring about the total equality of soul ...

Stoicism is not able to bring about the total equality of soul - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. - Beauty Interprets, Expresses, Manifests the Eternal X is Ten, Ten Lessons Over A ...

Without even a mention of Sri Aurobindo - Puducherry, an intellectual destination - The Hindu www.thehindu.com/todays-paper/tp-national/tp.../article7348880.ece 18 hours ago - Thus, the book feature...

Marx and Mises, Teilhard and Sri Aurobindo - You can say that this book was over 35 years in the making and was a culmination of my many diverse interests. I have one of those omnivorous minds and fr...

Hegel, Sri Aurobindo, and Evolution - Savitri Era of those who adore, Om Sri Aurobindo & The Mother. - Evergreen Essays Orwell and Huxley were right after all - C. James Townsend, auth...

Orwell and Huxley were right after all - C. James Townsend, author of *The Singularity & Socialism* The Romantic Movement itself arose as a reaction against Newton’s materialism as promulgated by ...


Wednesday, June 24, 2015

Sri Aurobindo wrote a series of articles on the Gita

Monday, February 10, 2014

ऋषि दयानन्दने सच्चाई को ढूंढ निकाला

۞ Sri Aurobindo ۞ महर्षि अरविन्द
योगी श्री अरबिन्द ने अपने ग्रंथ ''वेद रहस्य'' में लिखा हैः ''यूरोप के सर्वप्रथम वैदिक विद्वानों ने सायण की व्याखयाओं में युक्तियुक्ता की विशेष रूप से प्रशंसा की है तो भी, वेद वाह्य अर्थ के लिए भी यह सम्भव नहीं है कि सायण की प्रणाली का या उसके परिणामों का बिना बड़े से बड़े संकोच के अनुसरण किया जाये।'' 

.......सायण प्रणाली की केन्द्रीय त्रुटि यह है कि वह सदा कर्मकाण्ड विधि में ही ग्रसत रहता है और निरन्तर वेद के आशय को बलपूर्वक कमकाण्ड के संकुचित सांचे में ढालकर वैसा ही रूप देने का यत्न करता है.... सायण सर्वत्र इसी विचार (कर्मकाण्ड) के प्रकाश में प्रयत्न करता है। इसी सांचे के अन्दर वह वेद की भाषा को ठोंक-पीटकर ढालता है, इसके विशिष्ट शब्दों के समुदाय को भोजन, पुरोहित, दक्षिणा देने वाला, धन-दौलत, स्तुति, प्रार्थना, यज्ञ, बलिदान इन कर्मकाण्ड परक अर्थों का रूप देता है।''

''सायण के भाष्य ने पुरानी मिथ्या धारणाओं पर प्रामाणिकता की मुहर लगा दी जो कई शताब्दियों तक तोड़ी नही जासकती।''

''परिणामतः सायण भाष्य द्वारा ऋषियों का, उनके विचारों का, उनकी संस्कृति का, उनकी अभीप्साओं का एक ऐसा प्रतिनिधित्व हुआ है जो उतना संकुचित और दारिद्रयोपहत है कि यदि उसे स्वीकार कर लिया जाए तो वह वेद के सम्बन्ध में प्राचीन पूजा भाव को, इसकी पवित्र प्रामाणिकता को, इसकी दिव्य खयाति को बिल्कुल अबुद्धि गम्य कर देता है।''

(वेद रहस्य, पूर्वार्द्ध, पृ. ५५-५८)

--------------

योगी श्री अरबिन्द-----

यानी ''वैदिक व्याखया के विषय में मेरा यह विश्वास है कि वेदों की सम्पूर्ण अन्तिम व्याखया कोई भी हो, ऋषि दयानन्द को यथार्थ निर्देशों के प्रथम आविर्भावक के रूप में सदा सम्मानितकिया जाएगा। पुराने अज्ञान और बीते युग की मिथ्याज्ञान की अव्यवस्था और अस्पष्टता के बीच में यह उसकी ऋषिदृष्टी ही थी जिसने सच्चाई को ढूंढ निकाला और उसे वास्तविकता के साथ बाँध दिया। समय ने जिन द्वारों को बन्द कर रखा था, उनकी चाबियों को उसी ने पा लिया और बन्द पड़े हुए स्रोत की मुहरों को उसी ने तोड़कर परे फेंक दिया।'' 

(दयानन्द और वेद, वैदिक मैर्गजीन, नव. १९१६, लाहौर; वेदों का यथार्थ स्वरूप, पृ. ५८)।

काम की श्रेष्ठ चरितार्थता कहां है

۞ Sri Aurobindo ۞ महर्षि अरविन्द
• मानव समाज के तीन क्रम

मनुष्य का ज्ञान और शक्ति क्रमविकास में नाना रूप धारण करती हैं । उस विकास की तीन अवस्थाएं देखते हैं-शरीर-प्रधान प्राणनियंत्रित प्राकृत अवस्था, बुद्धि-प्रधान उन्नत मध्य अवस्था, आत्म-प्रधान श्रेष्ठ परिणति ।

शरीर-प्रधान प्राणनियंत्रित मनुष्य है काम और अर्थ का दास । वह जानता है सहज स्वार्थ साधारण भाव और प्रेरणा (instinct और impulse); कामना-कामना में अर्थ-अर्थ में संघर्ष उठ खड़ा होने के कारण घटना-परंपरा द्धारा सृष्ट जो व्यवस्था सुविधाजनक मालूम होती है उसे ही वह पसंद करता है, ऐसी थोड़ी या बहुत-सी व्यवस्थाओं की संहति को वह कहता है 'धर्म' । रूचि-परंपरागत, कुलगत या सामाजिक आचार ऐसी ही निम्न प्राकृत अवस्था के धर्म हैं । प्राकृत मनुष्य में मोक्ष की कल्पना नहीं होती, आत्मा का उसे संधान नहीं मिलता । उसकी अबाध शारीरिक और प्राणिक प्रवृत्तियों का अबाध लीला-क्षेत्र है एक कल्पित स्वर्ग । उस ओर उसकी विचार-धारा नहीं जा पाती । देहपात होने पर स्वर्ग जाना ही है उसके लिये मोक्ष ।

बुद्धि-प्रधान मनुष्य काम और अर्थ को विचार द्धारा नियंत्रित करने के लिये सचेष्ट रहता है । वह बराबर ही इस गवेषणा में संलग्न रहता है कि काम की श्रेष्ठ चरितार्थता कहां है, जीवन के अनेक भिन्न मुखी अर्थों में किस अर्थ को प्राधान्य देना उचित है और आदर्श जीवन का स्वरूप क्या है,-बुद्धिचालित किस नियम की सहायता से उस स्वरूप को परिस्फुट एवं उस आदर्श को सिद्ध किया जाता है; बुद्धिमान् मनुष्य इसी स्वरूप, आदर्श नियम के किसी एक श्रुंखलाबद्ध अनुशीलन को समाज का धर्म कह स्थापित करने का इच्छुक है । ऐसी धर्मबुद्धि ही होती है मानस-ज्ञान से आलोकित उन्नत समाज की नियंत्री ।

आत्म-प्रधान मनुष्य बुद्धि मन, प्राण और शरीर से अतीत गूढ़ आत्मा का संधान पा चूका होता है, आत्मज्ञान में ही जीवन की गति प्रतिष्ठित करता है,--मोक्ष, आत्मप्राप्ति, भगवत्प्राप्ति को ही जीवन की परिणति समझ आत्मप्रधान मनुष्य उस ओर अपनी समस्त गतिविधि परिचालित करना चाहता है, जो जीवन-प्रणाली और आदर्श-अनुशीलन आत्मप्राप्ति के लिये उपयोगी हैं, जिससे मानवीय क्रमविकास के चक्र के उस उद्देश्य की ओर अग्रसर होने की संभावना है, उसे ही वह कहता है 'धर्म' । श्रेष्ठ समाज ऐसे ही आदर्श, ऐसे ही धर्म से चालित होता है ।

प्राण-प्रधान से बुद्धि में, बुद्धि से बुद्धि के अतीत आत्मा में, एक-एक सीढ़ी करके भागवत पर्वत पर ऊर्ध्वगामी नियम द्धारा होता है मनुष्य-यात्री का आरोहण ।



किसी भी एक समाज में एक ही धारा नहीं दिखायी देती । प्रायः सभी समाजों में ऐसे तीन प्रकार के मनुष्य वास करते हैं, उस व्यष्टि-समष्टि का समाज भी मिश्र-जातीय होता है ।

प्राकृत समाज में भी बुद्धिमान और आत्मवान् पुरुष रहते हैं । वे यदि विरल हों, संहति-रहित या असिद्ध हों तो समाज पर विशेष कुछ प्रभाव नहीं पड़ता । यदि वे बहुत-से लोगों को संहतिबद्ध कर शक्तिमान् सिद्ध हों तभी वे प्राकृत समाज को मुट्ठी में पकड़कर थोड़ी-बहुत उन्नति कराने में सक्षम होते हैं । पर प्राकृत जन की अधिकता के कारण बुद्धिमान् या आत्मवान् का धर्म प्रायः विकृत हो जाता है, बुद्धि का धर्म convention (परंपरा) में परिणत हो जाता है, आत्मज्ञान का धर्म रुचि और बाह्य आचार के बोझ से दब क्लिष्ट, प्लावित, प्राणहीन और स्वलक्ष्यभ्रष्ट हो जाता है--सदा यही परिणाम दिखायी देता है ।

जब बुद्धि का प्राबल्य होता है तब बुद्धि को समाज की नेत्री बन अबोध रूचि और आधार को तोड़-फोड़, उलट-पलट कर मानसज्ञान से आलोकित धर्म की प्रतिष्ठा करने की चेष्टा करते हुए देखते हैं । पाश्चात्य ज्ञान का आलोक (enlightenment)साम्य-स्वाधीनता-मैत्री--इस चेष्टा का एक रूप-मात्र है । सिद्धि असंभव है । आत्मज्ञान के अभाव में बुद्धिमान् भी प्राण, मन, शरीर के खिंचाव से अपने आदर्श को अपने-आप ही विकृत करते हैं । निम्न प्रकृति के हाथ से बच निकलना है कठिन । मध्य अवस्था, मध्य अवस्था में स्थायित्व नहीं--या तो है नीचे की ओर पतन या ऊपर की ओर आरोहण । इन्हीं दो खिंचावों के बीच डोलती रहती है बुद्धि । आत्मवान् मनुष्य आत्मज्ञान का ज्योति स्फुरण होने पर उच्च धर्म की उपयुक्त सहायता कर रुचि और आचार को उच्च धर्म में परिणत करने के लिये यत्नशील है । उसके प्रयत्नों में भी अनेक विपत्तियों की संभावना है । निम्न प्रकृति का खिंचाव बहुत बड़ा खिंचाव है । साधारण मनुष्य की निम्न प्रकृति के साथ यदि समझौता करने जायें तो आत्म-प्रधान समाज की भी अधोगति की आशंका है ।

*

[निम्नलिखित अंश श्रीअरविन्द की कापी में ऊपरवाली रचना के ठीक पहले लिखा हुआ है ।]

यही ज्ञान और शक्ति समाज को चलायेगी, समाज का गठन करेगी, जरूरत के अनुसार उसका आकार और साधारण नियम बदल देगी । इस जीवन की गति में ज्ञान और शक्ति के विकास के साथ-साथ समाज का रूपांतर भी अवश्यंभावी है । मनुष्य के जीवन का यथार्थ नियन्ता है भगवद्द्त्त जीवंत ज्ञान और शक्ति जिसकी उत्तरोत्तर वृद्धि है क्रमविकास का उद्देश्य । समाज लक्ष्य नहीं हो सकता, समाज यंत्र और उपाय है । समाजरूपी यंत्र के सहस्र बंधनों में बद्ध मनुष्य के पोषण का अर्थ है, अवश्यंभावी निश्चलता और अवनति ।

जीवन का लक्ष्य है मनुष्य का भगवान् को पाना, भागवत आत्मविकास करना । जो इस लक्ष्य की ओर अग्रसर होंगे उन्हें भगवत्-ज्ञान को ही जैसे व्यष्टि जीवन का वैसे ही समष्टि जीवन का नियामक बनाना होगा । बुद्धि को ज्ञान के आसन पर नहीं बिठाना चाहिये । प्राचीन आर्य-जाति का समाज मुक्त और स्वाधीन समाज था, श्रुति से प्राप्त भागवत ज्ञान पर आधारित कुछ एक मुख्य तत्त्वों से गठित था । और फिर कुछ एक अत्यल्प विशेष नियम आर्यधर्म के मुख्य तत्त्व जिनसे समयोपयोगी सामाजिक आकृति दी जाती है श्रौत धर्मसूत्र में संकलित हैं । जैसे-जैसे मनुष्य की बुद्धि का आधिपत्य बढ़ने लगा वैसे-वैसे इन आकृतियों से बुद्धि द्धारा बंधी परिपाटी की स्वाभाविक स्पृहा अब और संतुष्ट नहीं होती । नियम था कि जिस परिमाण में जो शास्त्र श्रुति के पथ पर चलता है वही शास्त्र उसी परिमाण में ग्राह्य है । स्मार्त (स्मृति-शास्त्र) शास्त्र बृहद् रूप से रचित है । फिर भी आर्य इस बात को भूले नहीं कि श्रुति ही असली हैं । स्मृति गौण है, श्रुति सनातन, स्मृति समयोपयोगी । इसीलिये इसके विस्तार से विशेष कोई हानि नहीं हुई । अंत में, बौद्ध विप्लव के अवसान के बाद श्रुति को बिलकुल ही भुलाकर, उसे केवल संन्यास का ही साधन समझ कर शास्त्र को अवास्तविक प्रधानता दी गयी । समाज का लक्ष्य हो गया कि शास्त्र के दृढ़ बंधन द्धारा मनुष्य के सब पक्षों का स्वाधीन संचालन बंद कर निश्चल भाव में किसी तरह से बचा रहे । मनुष्य की स्वाधीन आत्मा का एकमात्र उपाय रह गया समाज का त्याग कर संन्यास अपनाना ।

भागवत विकास में मानुषी बुद्धि गौण उपाय है, असली परिचालक नहीं ।
भारतीय समाज के इतिहास में चार अवस्थाएं देखकर यह समझा जा सकता है ।